मियाकेजीमा इजू आइलैंड, जापान – हवा है ज़हरीली – ज़िन्दा रहने के लिए यहाँ के निवासियों को हमेशा लगाने पड़ते है गैस मास्क

Miyakejima Izu Island Japan History In Hindi : हमारी
पृथ्वी पर कई ऐसी जगह है जहाँ इंसानों के जिन्दा रहने के लिए बहुत ही विकट
परिस्थितिया है। ऐसे ही एक जगह ब्राजील के स्नेक आइलैंड के बारे में हमने
आप को अपनी एक पछली पोस्ट में बताया था जहा कि ज़हरीले गोल्डन पिट वाइपर
सांपो कि अधिकता के चलते कोई भी इंसान नहीं रह पाता है।  आज हम आपको एक
और  अजीबो गरीब आइलैंड के बारे में बताएँगे जहा पर इंसान रहते तो है पर
उन्हें जिन्दा रहने के लिए हमेशा गैस मास्क लगा के रखना पड़ता है  क्योकि
यहाँ के वातावरण में ज़हरीली गैसों कि मात्रा सामान्य से बहुत अधिक स्तर तक
पहुच गयी है। यह जगह है जापान का मियाकेजीमा इजू आइलैंड (Miyakejima Izu
Island Japan) ।

Miyakejima Izu Island, Japan, Hindi, History, Story, Kahani, Itihas, Information, Jankari,

मास्क पहने हुए मियाकेजीमा इजू आइलैंड के लोग

वास्तव में इजू आइलैंडस, छोटे – बड़े  कई आइलैंडस का एक समहू है पर इनमे
से केवल सात आइलैंड पर लोग रहते है। जो कि इजू सेवन (Izu 7) के नाम से
जाने जाते है। इनमे से ओशिमा सबसे बड़ा आइलैंड है।

Izu islands -Japan

इजू आइलैंडस जापान

पर हम यहाँ पर जिस इजू आइलैंड कि बात कर रहे है वो है मियाकेजीमा
(Miyakejima) .  वैसे तो सारे इजू आइलैंडस एक सक्रिय ज्वालामुखी बेल्ट पर
स्तिथ है, पर मियाकेजीमा पर एक बहुत ही सक्रिय ज्वालामुखी माउंट ओयामा
(Mount Oyama) है।


(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});

Mount Oyama Volcano at Miakejima island


(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});

ज़हरीली गैसे निकालता हुआ माउंट ओयामा ज्वालामुखी

जिसमे कि पछली एक सदी में कई बार बड़े विस्फोट हो चुके है। पिछला बड़ा
विस्फोट सन 2000 में हुआ था। वो एक बहुत ही भयंकर विस्फोट था।  जिसमे लावा
के साथ साथ बड़ी मात्रा में ज़हरीले गैसे (मुख्यत सल्फर डाई ऑक्साइड )
निकली थी। इतना ही नहीं ज्वालामुखी के शांत होने के बाद भी इन ज़हरीली गैसो
का निकलना जारी रहा।

Marriage at Miakejima island

मियाकेजीमा इजू आइलैंड पर शादी

इस विस्फोट के बाद मियाकेजीमा आइलैंड को खाली करा लिया गाय था। इनके
निवासियों को 2005 में वापस आइलैंड पर बसने कि इज़ाज़त मिली पर 24 घंटे गैस
मास्क लगाने कि चेतावनी के साथ । क्योंकि  तब भी इस आइलैंड पर हवा में
सल्फर डाई ऑक्साइड कि मात्रा बहुत ज्यादा थी और माउंट ओयामा से तब
भी लगातार ज़हरीली गैसे निकल रही थी।  इज़ाज़त मिलने के बाद लगभग एक तिहाई
लोग आइलैंड पर वापस आये। 2006 में इस आइलैंड कि आबादी 2884 थी।  2008 में
इस आइलैंड कि हवाई सेवा भी फिर से बहाल कर दी गयी।

Gas mask tourism

गैस मास्क टूरिज्म

अब इस आइलैंड पर  एडवेंचरर्स टूरिस्ट भी आते है पर उन्हें आइलैंड पर
उतरते ही गैस मास्क लगाने पड़ते है। इसके लिए यहाँ के स्टोर पर डिस्पोजेबल
मास्क मिलते है। टूरिज्म वर्ल्ड में ये गैस मास्क टूरिज्म के नाम से
प्रसिद्ध है।  इस आइलैंड के मुख्य़ आकर्षण वो खली पड़े मकान है जिनके
मालिक कभी इस आइलैंड पर वापस नहीं आये, वो इमारते है जो कि लावे से तहस नहस
हो चुकी है। गैस मास्क टूरिज्म यहाँ के निवासियों कि आय का एक मुख्य स्रोत
है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *