Romantic Shayari By Rahat Indori | राहत इंदौरी की रोमांटिक शायरी

Romantic Shayari By Rahat Indori
Romantic Shayari By Rahat Indori
*****
रोज़ तारों को नुमाइश में खलल पड़ता हैं
चाँद पागल हैं अन्धेरें में निकल पड़ता हैं
जागने की भी, जगाने की भी, आदत हो जाए
काश तुझको किसी शायर से मोहब्बत हो जाए
दूर हम कितने दिन से हैं, ये कभी गौर किया
फिर न कहना जो अमानत में खयानत हो जाए
Jagne ki bhi jagane ki bhi aadat ho jaye
Kash tujh ko bhi kisi shayer se mohbbt ho jaye
Door hum kitne dinno se hain ye kabhi gaur kiya
Fir na kehna jo ayanat me khayanat ho jaye
*****
सूरज, सितारे, चाँद मेरे साथ में रहें
जब तक तुम्हारे हाथ मेरे हाथ में रहें
Suraj, sitaare, chaand mere saath me rahe
jab tak tumhare haath mere haath me rahe
*****
जवानिओं में जवानी को धुल करते हैं
जो लोग भूल नहीं करते, भूल करते हैं
अगर अनारकली हैं सबब बगावत का
सलीम हम तेरी शर्ते कबूल करते हैं
Jawaniyon me jawani ko dhul karte hain
Jo log bhul nahi karte, bhul karte hain
Agar Anaarkali hain sabab bagaavat ka
Salim hum teri sharten kabool karte hain
*****
जवान आँखों के जुगनू चमक रहे होंगे
अब अपने गाँव में अमरुद पक रहे होंगे
भुलादे मुझको मगर, मेरी उंगलियों के निशान
तेरे बदन पे अभी तक चमक रहे होंगे
Jawaan aankhon ke jugnoo chamak rahe honge
Ab apne gaonv me amrood pak rahe honge
Bhulade mujhko magar, meri ungaliyon ke nishaan
tere badan pe abhi tak chamak rahe honge
*****
इश्क ने गूथें थे जो गजरे नुकीले हो गए
तेरे हाथों में तो ये कंगन भी ढीले हो गए
फूल बेचारे अकेले रह गए है शाख पर
गाँव की सब तितलियों के हाथ पीले हो गए
Ishq ne goothe the jo gajre nukile ho gaye
Tere haathon me to ye kangan bhi dheele ho gaye
Phool bechare akele rah gaye hain shaakh par
Gaonv ki sab titaliyon ke haath peele ho gaye
*****
जुबा तो खोल, नज़र तो मिला,जवाब तो दे
में कितनी बार लुटा हु, मुझे हिसाब तो दे
तेरे बदन की लिखावट में हैं उतार चढाव
में तुझको कैसे पढूंगा, मुझे किताब तो दे
Juba to khol, nazar to mila, jawaab to de
Mein kitni baar luta hun, mujhe to hisaab to de
Tere badan ki likhawat mein hain utaar chadhav
Mein tujhko kaise padhunga, mujhe kitaab to de
उसकी कत्थई आंखों में हैं जंतर मंतर सब
चाक़ू वाक़ू, छुरियां वुरियां, ख़ंजर वंजर सब
जिस दिन से तुम रूठीं,मुझ से, रूठे रूठे हैं
चादर वादर, तकिया वकिया, बिस्तर विस्तर सब
मुझसे बिछड़ कर, वह भी कहां अब पहले जैसी है
फीके पड़ गए कपड़े वपड़े, ज़ेवर वेवर सब
Uski kathai aankho me jantar-mantar sab
Chaaku-waaku,chhuri-wuri,khanjar-wanjar sab
Jis din se tum ruthi,mujhse ruthe hain
Chaadar-waadar,takiya-wakiya,bistar-wistar sab
Mujhse bichhar ke wo kahaa pahle jaisi hai
Dhile par gaye kapde-wapre,zewar-webar sab
*****
फैसला जो कुछ भी हो, हमें मंजूर होना चाहिए
जंग हो या इश्क हो, भरपूर होना चाहिए
भूलना भी हैं, जरुरी याद रखने के लिए
पास रहना है, तो थोडा दूर होना चाहिए
Faisla ji kuch bhi ho, hamein manjoor hona chahiye
Jang ho ya ishq ho, bharpoor hona chahiye
Bhoolna bhii hain, jaroori yaad rakhne ke liye
Paas rahna hai, to thoda door hona chahaie
*****
अब जो बाज़ार में रखे हो तो हैरत क्या है
जो भी देखेगा वो पूछेगा की कीमत क्या है
एक ही बर्थ पे दो साये सफर करते रहे
मैंने कल रात यह जाना है कि जन्नत क्या है
Ab jo baazaar mein rakhe ho to hairat kyaa hai
Jo bhii dekhegaa wo poochhegaa ki keemat kya hai
Ek hii barth pe do saaye safar karte rahe
Maine kal raat yah jaana hai ki jannat kyaa hai
*****
आग के पास कभी मोम को लाकर देखूं
हो इज़ाज़त तो तुझे हाथ लगाकर देखूं
दिल का मंदिर बड़ा वीरान नज़र आता है
सोचता हूँ तेरी तस्वीर लगाकर देखूं
Aag ke paas kabhi mom ko laakar dekhoon
Ho izzazat to haath lagaakar dekhoon
Dil ka mandir bada veeran nazar aata hai
Sochta hoon teri tasveer lagakar dekhoon
*****
ऐसी सर्दी है कि सूरज भी दुहाई मांगे
जो हो परदेश में वो किससे रजाई मांगे
Aesi sardi hai ki sooraj bhii duhaai maange
Jo ho pardesh mein wo kisse rajaai maange
******
राज़ जो कुछ हो इशारों में बता भी देना
हाथ जब उससे मिलाना तो दबा भी देना
Raaz jo kuchh ho ishaaron mein bata bhii dena
Haath jab usse milaana to dabaa bhii dena
*****
हाथ ख़ाली हैं तेरे शहर से जाते जाते,
जान होती तो मेरी जान लुटाते जाते,
अब तो हर हाथ का पत्थर हमें पहचानता है,
उम्र गुज़री है तेरे शहर में आते जाते।
Haath khaali hain tere shahar se jaate jaate
Jaan hoti to meri jaan lutaate jaate
Ab to har haath ka patthar hamein pahchanta hai
Umar gujari hai tere shahar mein aate jaate

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *