बच्चों के जन्म से सम्बंधित 10 विचित्र परम्पराएं

10 strange birth traditions around the world in Hindi : दुनिया भर में कई ऐसे अजीबोगरीब रस्मो-रिवाज और परम्पराएं हैं, जिस पर यकीन करना मुश्किल होता है। हम अपने ब्लॉग पर आपको अब तक ऐसी अनेको परम्पराओं से परिचित करा चुके है। आज इस पोस्ट में हम, विशव के अलग-अलग देशों में, बच्चों के जन्म से सम्बंधित कुछ विचित्र परम्पराओं के बारे में बताएँगे।
1. जन्म के बाद बच्चों की नाल को खाना (Eating the placenta after birth)11
चीन, जमैका और भारत के कुछ पिछड़े इलाकों में बच्चों के जन्म के थोड़ी देर बाद ही महिला को उसके नाल को खाना पड़ता है। ऐसा कहा जाता है कि इससे बच्चों को जन्म देने वाली मां को भरपूर पोषक तत्व मिलता है। वहीं, कुछ लोगों का मानना है कि बच्चों को इससे फायदा होता है। हालांकि, वैज्ञानिक इसे गलत मानते हैं। उनका कहना है कि इससे कई प्रकार के इंफेक्शन होते हैं।
2. बच्चों के चेहरे और कान में थूकना (Spitting On The Baby)12
अक्सर छोटे बच्चों को देखकर उन्हें गोद उठाने और खिलाने का मन करता है, लेकिन आपको पता है कि दुनिया के कुछ हिस्सों में जन्म के पश्चात बच्चों के ऊपर थूकना भी एक परंपरा है? अगर नहीं जानते तो बता दें कि नाइजीरिया और मॉरिटानिया में बच्चों के साथ ऐसा किया जाता है। बच्चे के जन्म के बाद लोग उसकी ऊंगली पर थूकते हैं और उस ऊंगली को उसके मुंह में डालते हैं। वहीं, कुछ जगहों पर महिलाएं बच्चों के चेहरे पर तो पुरुष उनके कानों में थूकते हैं।
3. बालिनीज बच्चे नहीं छू सकते जमीन (Balinese Babies Can’t Touch The Ground)13
इंडोनेशिया के बाली आइलैंड के रहने वाले बालिनीज लोगों का मानना है कि छोटे बच्चों का नाल उनके लिए किसी मसीहा से कम नहीं है। इस कारण से वे लोग नाल को कब्रिस्तान में दफनाते हैं। इसके अलावा जन्म के बाद 3 महीने तक बच्चे को जमीन नहीं छूने देते हैं। तीन महीने बाद एक समारोह के पश्चात बच्चों को जमीन स्पर्श कराया जाता है।
4. गर्भवती महिला को हंसने-गुस्साने पर बैन (Chinese Pregnancy Restrictions)14
चीन में गर्भवती महिला को हंसने और गुस्साने पर प्रतिबंध लगा है। चीनियों का मानना है कि इससे होने वाले बच्चे के स्वास्थ्य पर प्रतिकूल असर पड़ता है। वहीं, मन में कुछ भी गलत सोचने से मना किया जाता है। इसके अलावा प्रेग्नेंट महिलाओं को लाइट कलर फूड खाने की अनुमति होती है। ये सब शादी के बाद घर में प्रवेश करने के साथ ही लागू हो जाता है। इसके अलावा प्रेग्नेंट महिलाओं को सोने के दौरान अपने बिस्तर के नीचे चाकू लेकर सोना पड़ता है।
5. बर्फीले पानी से नहलाना (Shoving Mayan Babies In Chilled Water)15
ग्वाटेमाला में बच्चों को गर्मी और दाग-धब्बों से बचाने के लिए उन्हें बर्फीले पानी से नहलाया जाता है। मयान माताएं अपने बच्चों के साथ ऐसा करती हैं। वे बताती हैं कि इससे बच्चे सही तरीके से सोना भी सीख जाते हैं।
6. बच्चों की रेसिंग (Lithuanian Baby Racing)16
लिथुआनिया में बच्चों को रेसिंग का आयोजन किया जाता है। इस दौरान बच्चे एक-दूसरे के साथ लड़ने भी लगते हैं। वहीं, उनके माता-पिता खिलौना लेकर उन्हें अपने पास बुलाते हैं।
7. बच्चों के जन्म के समय नहीं होता कोई साथ (Unassisted Nigerian Birth)17
नाइजीरिया में जब महिला बच्चे को जन्म देती है, उस दौरान उसके साथ में कोई नहीं होता है। आवश्यकता के सारे सामान उसके कमरे में पहुंचाकर घर के लोग बाहर आ जाते हैं। हालांकि, ये परंपरा नाइजीरिया के पिछड़े इलाकों में ही रह गई है। कई संस्थाओं ने इस दौरान लोगों की मदद की भी पेशकश की है।
8. पाकिस्तान में घर से दूर बच्चों को जन्म देती हैं महिलाएं (Isolated Pakistani Mothers)18
पाकिस्तान में कलाश जनजाति की माताएं अपने घर और परिवार से दूर बच्चों को जन्म देती हैं। लोगों का मानना है कि बच्चों को जन्म देने के दौरान महिलाएं अशुद्द होती हैं। इस कारण से उन्हें घर से दूर एक अन्य घर में भेज दिया जाता है, जिसे बस्लेनी कहा जाता है।
9. बच्चों के ललाट पर रखते हैं वेडिंग केक (Wedding Cake On The Baby’s Forehead)19
आयरलैंड में पहले बच्चे के जन्म के बाद उसके ललाट (फोरहेड) पर वेडिंग केक काटने की परंपरा है। ऐसा माना जाता है कि बच्चे के भविष्य के लिए यह बेहतर होता है।
10. बच्चे के गुप्तांग को छेड़ना (Stimulating The Genitals)20
चीन के अलपसंख्यक समुदाय ‘मांचू’ में नवजात बच्चे के प्रति प्यार दिखाने का बड़ा ही अजीब तरीका है। यहाँ पर बच्चे के होने की ख़ुशी को उसके गुप्तांग को स्पर्श करके किया जाता है।  जहाँ लड़की के गुप्तांग  उंगली से गुदगुदी की जाती है वही लड़के के गुप्तांग को मुहँ में लिया जाता है। इस कृत्य को सेक्सुअल नहीं माना जाता है जबकि इसी समुदाय में चुम्बन को भी सेक्सुअल एक्ट माना जाता है इसलिए मांचू माता-पिता कभी भी अपने बच्चे को चूमते नहीं है।  ऐसी परम्परा थाइलैंड और जापान के भी कुछ समुदायों में पाई जाती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *